Content

Content of Fundamental Notes

कंप्यूटर का परिचय  (Introduction of Computers)

Computer एक ऐसा Electronic Device है जो User द्वारा Input किये गए Data में प्रक्रिया करके सूचनाओ को Result के रूप में प्रदान करता हैं, अर्थात् Computer एक Electronic Machine है जो User द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करती हैं| इसमें डेटा को स्टोर, पुनर्प्राप्त और प्रोसेस करने की क्षमता होती है।

Computer एकइलेक्ट्रॉनिकडिवाइसहै, जिसकाउपयोगगणनाकरने, डेटा/इन्फॉर्मेशनकोस्टोर, व्यवस्थित, औरपुनःप्राप्तकरने, तथाअन्यमशीनोंकोकंट्रोलकरनेकेलिएकियाजाताहै।“ शब्द Computer इंग्लिश शब्द ‘Compute’ से लिया गया है, जिसका हिंदी मतलब है ― गणना करना। आज से कई सौ सालों पहले यह शब्द उस व्यक्ति के लिये उपयोग किया जाता था, जो गणना करते थे (अर्थात गणितज्ञ थे)। जब यही काम बाद में Computer करने लगे तो उन्हें गणकयंत्र (Calculating Machine) कहा जाने लगा।

कम्प्यूटर का इतिहास एवं विकास | History of computer in hindi

कंप्यूटर की खोज और उसके सुधार का इतिहास 2500 वर्ष से भी पुराना हैं. लेकिन कंप्यूटर के आविष्कार ने आज पूरी दुनिया को बदलकर रख दिया हैं. आज हर कोई computer के बारे में जानना और समझना चाहता हैं. आधुनिक समय में एक से बढ़कर एक hi-tech computer इस्तेमाल किए जा रहे हैं.

Abacus (अबेकस)

सर्वप्रथम Abacus device का आविष्कार गणना करने के लिए लगभग 600 ईसा पूर्व चीन में हुआ था. अबेकस को Soroban (सोरोबान) के नाम से भी जाना जाता हैं. इस device की मदद से बिना copy, pen या calculator के गणितीय क्रियाओं को सरलता से हल किया जा सकता हैं.

Pascaline (पास्कलाइन)

सन 1942 में फ्रांस के Mathematician ब्लेज पास्कल (Blaise Pascal) ने एक यान्त्रिक गणना करने का यंत्र बनाया था. जिसे ‘Adding Machine’ कहा गया. यह मशीन सिर्फ जोड़ने व घटाने की गणना करता हैं. यह मशीन घड़ी और ओडोमीटर के सिद्धान्त पर कार्य करता हैं. पास्कल द्वारा बनायी गयी इस युक्ति को ‘पास्कलाइन’ कहा गया. यह सबसे पहला ‘mechanical calculating machine’ था.

Charles Babbage (चार्ल्स बैबेज)

सन 1842 ई. में चार्ल्स बैबेज ने एक शक्तिशाली मशीन की रूपरेखा तैयार की जिसका नाम Analytical Engine (एनालिटिकल इंजिन) रखा. यह machine पूर्णतया स्वचालित था तथा mathematics की आधारभूत क्रियाएँ successfully क्रियान्वित कर सकता थाइस यंत्र की speed 60 गणनाएँ प्रति मिनट तक थी.

Analytical Engine’ आगे चलकर आधुनिक कंप्यूटर का आधार बना. इसी कारण Charles Babbage को ‘कंप्यूटर का जनक’ (Father of Computer) माना जाता हैं.

Characteristics of Computer कंप्यूटर की विशेषताएं

Speed ( गति)

एक मनुष्य किसी जटिल कैलकुलेशन को करने में अगर एक घन्टे का समय लेता है, तो Computer उसी कैलकुलेशन को कुछ ही Second में पूर्ण कर सकता है। वो इसलिए क्युकी Computer एक बेहद Super-fast Machine है और ये इसकी सबसे बड़ी विशेषता है। Computer की Speed को MIPS (Million of Instructions per Second) में मापा जाता है।

Accuracy (त्रुटि रहित कार्य)

Computer की दूसरी सबसे बड़ी विशेषता Accuracy है। इसके द्वारा की जाने वाली प्रत्येक कैलकुलेशन 100% Correct होती है। मनुष्य किसी भी कार्य को पूर्ण सटीकता से नही कर सकता उससे कुछ न कुछ गलतियां हो ही जाती है। इसके विपरीत Computer द्वारा निष्पादित किये गए कार्य में किसी भी प्रकार की त्रुटि (error) नही पायी जाती। अगर कभी परिणाम में कोई त्रुटि पायी भी जाती है, तो उसका कारण यूजर के द्वारा फीड किया गया गलत इनपुट है।

Storage Capacity (भंडारण क्षमता)

Computer में उच्च भंडारण क्षमता होती है, जिसके कारण ये बड़ी मात्रा में विभिन्न प्रकार के data को store कर सकते है। आमतौर पर कम्प्यूटरों में डेटा संग्रहित करने के लिये SSD (Solid-state drive) और Hard Drive का उपयोग किया जाता है। इन्हें सेकंडरी स्टोरेज डिवाइस कहते है। ये डेटा को स्थायी रूप से संग्रहित करती है जिसे जरूरत पड़ने पर आसानी से पुनर्प्राप्त (retrieve) किया जा सकता है।

Reliability (विश्वसनीयता)

Computer एक भरोसेमंद मशीन है, जिस पर लंबे समय तक विश्वास किया जा सकता है। यही कारण है कि आज बड़े-बड़े संगठन, संस्थान और कंपनियां अपने कार्यो के लिए Computer पर निर्भर है। इस पर भरोसे का मुख्य कारण ये है कि Computer अपने कार्यो को लगातार बिना किसी विफलता या त्रुटि के करता है। अर्थात प्रदर्शित किए जाने वाले आउटपुट की गुणवत्ता लगातार बनी रहती है। इसी कारण कंप्यूटर को Reliable Machine कहा जाता है।

Versatility (विविधता)

हम सभी जानते है, कि Computer विभिन्न प्रकार के कार्य कर सकता है। इसलिए इसे Versatile Machine कहा जाता है। अर्थात Computer का उपयोग विभिन्न क्षेत्रों से सम्बंधित समस्याओं को हल करने के लिए किया जा सकता है। उनका उपयोग स्कूलों, अस्पतालों, व्यवसायों, सरकारी संगठनों, रेलवे स्टेशनों, एयरपोर्ट और घरों में अलग-अलग उद्देश्यों के लिए जाता है। वे न केवल विज्ञान और इंजीनियरिंग से सम्बंधित जटिल गणितिय समस्याओं को हल कर सकते है, बल्कि अगले ही पल इन्हें मनोरंजन के लिये उपयोग किया जा सकता है। जिसे वे उसी सटीकता से करते है।

Diligence (कर्मठता या निरन्तरता)

हम मनुष्य किसी भी कार्य को लंबे समय तक नही कर सकते क्योंकि हमें कुछ समय बाद थकान और एकाग्रता की कमी महसूस होने लगती है। इसलिए बीच-बीच मे Break लेना हमारे लिये जरूरी हो जाता है। चूंकि Computer एक Machine है, इसलिए थकावट या बोरियत से इसका कोई लेना-देना नही होता जिस कारण ये दिन के 24 hours समान स्पीड और सटिकता के साथ कार्य कर सकता है। यही कारण है, कि आज मनुष्य कई कार्यो के लिए Computer पर निर्भर है।

 Automation (स्वचालन)

Computer एक स्वचालित मशीन है, जो दिए गए कार्य को स्वचालित रूप से करने में सक्षम होते है। एक बार जब यूजर निर्देशों को Computer में फीड कर देता है, उसके बाद आउटपुट प्रदर्शित करने तक की प्रक्रिया Automatic है जिसमें मानव हस्तक्षेप की आवश्यकता नही होती है। इसका अर्थ ये हुआ कि Computer किसी कार्य के संचालन के लिये पूरी तरह से उपयोगकर्ता पर निर्भर नही होता है।

Multitasking (बहु-कार्यण)

ये Computer की एक बहुत बड़ी विशेषता है कि वे एक समय मे कई कार्य कर सकते है, इस प्रक्रिया को Multitasking कहा जाता है। उदाहरण के तौर पर देखे तो आप Internet surfing करते-करते Music play कर सकते है या Computer पर कई दूसरे एप्लीकेशन को एक समय मे संचालित किया जा सकता है। हालांकि Computer एक समय मे सिर्फ एक ही प्रोसेस को निष्पादित कर सकता है, परंतु ये कार्यो को तेजी से बदल सकता है। जिसके कारण हम कई एप्लीकेशन को एक समय मे उपयोग कर पाते है।